*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, October 4, 2011

तमन्ना...

12 comments:

Amrita Tanmay said...

बढ़िया

Amrita Tanmay said...

बढ़िया

NEELKAMAL VAISHNAW said...

धन्यवाद अमृता जी
Direction of Life...: चाहत...
मधुर वाणी: !...!...मुकद्दर...!...!

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर...

Dr Varsha Singh said...

लाजवाब .....

chirag said...

nice ...
its very good

NEELKAMAL VAISHNAW said...

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद स्नेह के लिए

सागर said...

very very nice...

NEELKAMAL VAISHNAW said...

@अमृता जी
@महेश्वरी जी
@डॉ. वर्षा जी
@चिराग जी
@सागर जी
आप सभी का धन्यवाद आप सभी को दीपोत्सव की अग्रिम शुभकामनाएं धन्यवाद उत्साहवर्धन के लिए आगंतुक मित्रों का भी धन्यवाद और शुभ कामनाएं

NEELKAMAL VAISHNAW said...

सभी मित्रों से अनुरोध है की अब मेरा ब्लाग फेसबुक पर भी है कृपया जरुर अनुसरण करे अगर आपको मेरा ब्लाग पसंद हो तो जरुर लाइक करें(फालो मी)लिंक नीचे है
http://www.facebook.com/groups/mitramadhur/
MADHUR VAANI
MITRA-MADHUR

artijha said...

bahut khubsurat likha hai aapne...chhoti si rachna me dil ke sare jajbaat jhalak rahe hai....

SHASHI PANDEY said...

very nice