*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, October 15, 2011

तम्बाखू की विनती


     तम्बाकू की विनती
मैं अलबेली तम्बाकू, प्यार करूँ गर्दभराज से,
आकर्षित, सम्मोहित करती, उनको अपने महक भरे प्यार से |
लेकिन उनको तो नफरत है, मेरी रंगत, खुशबू तक से,
अतः जलभुन कर बनी विष-बाला, इर्षा, द्वेष, जलन, मत्सर से |
पर मनुज दीवाना मुझ पर मरता, पागल, मतवाला हो कर,
मजनूं सा पाने को मुझको, भटक रहा हर गली-डगर |
कभी खैनी, सूखा, सुरती, नसवार, कभी गुटके में शृंगारित कर,
कभी पनेडी से लाकर तुम, पीते मस्ती में मेरा रस |
कभी बीड़ी, सिगरेट, चुरुट, सिगार, कभी हुक्का व चिलम सजाकर,
मेरा चुम्बन लेने को तुम, कितने व्याकुल, कितने बेकल |
मेरे धुँए के आलिंगन में, तुम अपने फ़िक्र, गम उड़ा रहे,
लेकिन मेरा डाह-विष, तुम्हें अन्दर-अन्दर जला रहे |
तुम चाहे मेरे आशिक हो, पर- मैं तुमसे प्यार नहीं करती,
मुझसे बलात्कार का दण्ड, हरदम तुम्हें दिया करती |
तुम सोच रहे जीवन में अपने, मजा ले रहे मेरा हर पल,
लेकिन तुम्हें बतौर सजा मैं, देती टीबी, अल्सर, केन्सर |
मैं पतिव्रता हूँ वफादार, केवल गर्दभराज के प्रति,
वे पत्नी माने, न माने, मैं उन्हें मानती अपना पति |  
मैं नहीं तुम्हारी हो सकती, पर- यदि तुम सच्चे प्रेमी हो,
तो पाने की त्याग कामना, प्रेम-भाव से मुझे छोड़ दो |
डॉ. द्वारका बाहेती 'द्वारकेश'

1 comment:

Ram Swaroop Verma said...

मैं पतिव्रता हूँ वफादार, केवल गर्दभराज के प्रति,
वे पत्नी माने, न माने, मैं उन्हें मानती अपना पति
अच्छा चित्रण्…………………