*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, October 4, 2011

आशियाना

चलो एक ऐसा आशियाना हम बनाये 
जहाँ रहते हो चंदा और सूरज साथ साथ 
जहाँ चलती हो पवन और नदिया साथ साथ 
जहा फूल और खुशबू बिखरे साथ साथ 
जहाँ मिलते हो राम और रहीम साथ साथ 

चलो एक ऐसा आशियाना हम बनाये 
जहाँ हो खुशियों की सोगात 
जहाँ हो प्यार की बरसात 
जहाँ कभी न हो कोई निराशावादी बात 

चलो एक ऐसा आशियाना हम बनाये 
जहाँ रहे ना कोई रोगी 
जहाँ मिले ना कोई भोगी 

चलो एक ऐसा आशियाना बनाये 
जहाँ मिले आतंकवाद से छुटकारा 
और जहाँ गूंजे हर वक़्त ये नारा 
सबसे प्यारा हिन्दुस्तान हमारा .
(चिराग )

No comments: