*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, September 5, 2011

teacher



शिक्षक होकर भी शिक्षक के बारे मे ,
लिखते हुए मेरी कलम अटकने लगी|
शायद वो मूल बातो से कही भटकने लगी|
शायद शिक्षक ,शिक्षक नहीं,या शिष्य ,शिष्य नहीं,
या फिर गुरु शिष्य की परंपरा कही भटकने लगी|
फिर भी कहना चाहूँगा एक बात,
गुरु हो या शिष्य हो बस दोनों मे कर्त्तव्य निष्ठां हो |
आचार ,व्यव्हार से दोनों समर्पित हो,
सच्चाई ,ईमानदारी का पाठ सर्वोपरि हो|
राष्ट्र निर्माण ,समाज निर्माण मे आपका योगदान अतुलनीय हो|
बस यही अभिलाषा है मेरी आपका भविष्य ,
चन्द्रमा की सीतलता लिए सूर्य की तरह उज्जवल हो|

रचनाकार -प्रदीप तिवारी
www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
www.pradeeptiwari.mca@gmail.com

2 comments:

वन्दना said...

सही कहा।

रविकर said...

पहली कक्षा की शिक्षिका--
माँ के श्रम सा श्रम वो करती |
अवगुण मेट गुणों को भरती |
टीचर का एहसान बहुत है --
उनसे यह जिंदगी संवरती ||


माँ का बच्चा हरदम अच्छा,
झूठा बच्चा फिर भी सच्चा |
ठोक-पीट कर या समझाकर-
बना दे टीचर सच्चा-बच्चा ||


लगा बाँधने अपना कच्छा
कक्षा दो में पहुंचा बच्चा |
शैतानी में पारन्गत हो
टीचर को दे जाता गच्चा ||