*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 1, 2011

मै भी अन्ना-तुम भी अन्ना

मै भी अन्ना-तुम भी अन्ना
--------------------------------
मै भी अन्ना,तुम भी अन्ना,हम सब है अन्ना का सब बल
अड़े मिटाने को आन्दोलन,चिदंबरम जी और श्री सिब्बल
और साथ में ,लाठी लेकर,दिल्ली पुलिस दिखाती सब बल
देखा जन सैलाब उमड़ता,मन मसोस के चुप थे केवल
साधू वेश में,अग्निवेश जी,बन कर के कुटिलों के साथी
करते बात फोन पर दीखे,अन्ना को बतलाते हाथी
काम कर रहे हैं जयचंद का,लगा लगा जय हिंद का नारा
लूट रहे मोहम्मद गौरी बन,भ्रष्टाचारी, देश हमारा

मदन मोहन बाहेती'घोटू'