*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, September 7, 2011

शुक्रिया जनाब



हम शुक्रगुजार हैं उनकेजिसने ठुकराया है हमें,
अपने भावों को कविता मेंपिरोना सिखाया है हमें।

उनके इस तरह जाने कागम क्या करें रब से,
उसने ही तो रोते हुए मुस्कुराना, सिखाया है हमें।

हम तो उनकी इस अदा कोजुल्म भी न कह सके,
इस अदा ने ही तोअपना आशिक बनाया है हमें।
शुक्रिया जनाब
My Blog: Life is Just a Life

No comments: