*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 1, 2011

चेन्नई से एक खबर

चेन्नई से एक खबर
----------------------
चेन्नई में कुंड के पास था एक पत्थर
वर्षों से कपडे धोती थी,
महिलाएं जिसके ऊपर
जब पलटा,तो देखा,
वह शिला पत्थर की
मूर्ती थी,महावीर स्वामी,तीर्थंकर की
सेकड़ों वर्षों से,
पीठ पर कपडे और धोवनो की ,
मार खा रहे थे
और लोगों की गन्दगी मिटा कर,
मुस्करा रहे थे
महावीर स्वामी हो या उनकी मूर्ती,
सभी ने उपकार किया है
शांति और सहनशीलता का उपदेश दिया है

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'

1 comment:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर।
गणशोत्सव की शुभकामनाएँ।