*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, September 4, 2011

तुझको मिले अब तो चाहत तेरी



मेरी दुआ है रब सेकि पूरी हो आरजू तेरी,
मेरी अल्तजा है उस खुदा सेमोहब्बत मेरी,
मुझे तू मिलेना मिलेअब ये किस्मत मेरी,
फिर भी तुझको मिले अब तो चाहत तेरी॥

इन दिनों हमें शौक हैयाद करना तुम्हें,
और तुम्हारी आदत हैभूल जाना हमें,
तुझे हिचकी का आना है हरकत मेरी
फिर भी तुझको मिले अब तो चाहत तेरी॥

ये आज कल अश्क बहाना है हरकत मेरी,
फिर भी तुझको मिले अब तो चाहत तेरी॥

2 comments:

vandan gupta said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
शिक्षक दिवस की शुभकामनायें.

sushma verma said...

बेहतरीन....शिक्षक दिवस की शुभकामनायें.