*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 8, 2011

जीवन



 शाम ढले जब  मेरे घर दीपक जले
  मेरा मन घर जाने से बहुत डरे.
    घर मे बीमार माँ दावाइयो के इंतजार मे होगी 
  बच्चे किताबो के इंतजार मे देख रहे होंगे दवार
                                                 बीबी सोचा रही होगी   आज  aa  जाए कुछ 
                                                 तो पडोशी से जाकर न मंगू  उधार
  इन सभी बातो को सोचकर मन घबरा रहा था
   मेरा ब्लडप्रेशर बढ़ता ही जा रहा था
    सोचा आज कहा से लाऊ उधार
    इसशे अछ्छा है क्यों  न मर जाऊ
                                       इन्ही ख्यालो मे खोये हुए देर हो चुकी थी
                                        घर पर माँ और पत्नी के मन मे आशंका घेर चुकी थी
                                         माँ का व्याकुल मन घबरा रहा था
                                        पत्नी का झूठा शाहश उन्हें ढ़ाढ़श बधा रहा था
  घर पहुचते ही माँ  ने  गले से लगाया
  पत्नी ने मुझे  आशुओ से भिगोया
 तब मुझे लगा क्या करने जा रहा था
 अपनी खुशियों को ख़ुद ही मिटाने वाला था
  ये जरूरते है आज नहीं तो कल होंगी पूरी
                 इनके बिना मेरी मेरे बिना इनकी जिन्दगी है अधूरी  ||||


                                                                                          रचनाकार
                                                                                     Pradeep tiwari
                                                                                      www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
www.pradeeptiwari.gmail.com

3 comments:

Neeraj Dwivedi said...

Mujhe Shabd nahi mil rahe kuchh kahne ke liye ... par kuchh kahna jarur chahta hun.

prerna argal said...

bahut hi maarmik aur dil ko choonewaali shaandaar rachanaa.shabdvihin kar diyaa aapne.bahut bahut badhaai aapko.





please visit my blog
www.prernaargal.blogspot.com

LAXMI NARAYAN LAHARE said...

अच्छी, भावभरी कविता हार्दिक बधाई ..
कोसीर ...ग्रामीण मित्र ! में आपका स्वागत है

.................................

कोसीर... ग्रामीण मित्र !