*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, September 7, 2011

परिवर्तन



मेरा कुत्ता मेरे साथ रहता है|
मेरा कुत्ता  मेरे पास रहता है|
       इसको देखकर लोगो को, 
       वफादारी का एहसास रहता है|
इंसानों मे भी नहीं है  वो ,
जो मेरे कुत्ते के पास है|
           
मेरे कुत्ते ने भोकना कर दिया है कम,
क्यों की ये अदा तो अब इंसानों के पास है|
            जीवन मे समर्पण तो कुत्ते के पास है,
            छीनना  और झपटना इंसानों मे आम बात है|
                            
              आजकल कुत्ते चूहे,बिल्ली से भी कर लेते है दोस्ती,
              पर पता नहीं क्यु इन्शान,इन्शान से नाराज है|
हम जानवर हो गए या जानवर इन्शान,
इसका जबाब न मेरे पास है, इसका जबाब आप के पास है|
                                                                    
                                                                   
                                                        
                                                      
 रचनाकार --प्रदीप तिवारी
                                                                     www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
 www.pradeeptiwari.mca@gmail.com

2 comments:

prerna argal said...

bahut hi gahanavam saarthak abhibyakti.bahut bahut badhaai.




please visit my blog
www.prernaargal.blogspot.com

Neeraj Dwivedi said...

Bahut Sundar rachna ..