*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, September 5, 2011

मेरा सन्देश



 १

 मंजिल को निगाहों मे रखना |
अपनों से बड़ो का सम्मान करना|
बुरइयो से कोशो दूर रहना|
                                  परेशानियों को हस कर सहना|
जिन्दगी को एक मकशद देना|
असफलता को सीढ़ी समझना|
हर हाल मे आगे को बढ़ना|
बस मेरा आप से यही है कहना|
    २
आने वाले भविष्य का ,
                   आज है आप  सब|
सभलकर चलना
               गिरने का है डर|
मंजिल तुम्हारे कदम चूमेंगी,
               यार ठीक से पढाई तो कर|
            ३
मंजिल पाए आप 
                यही दुआ है हमारी|
सारी खुसिया मिले आपको ,
                 यही खुदा से फरियाद है हमारी|



रचनाकार -प्रदीप तिवारी
www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
www.pradeeptiwari.mca@gmail.com

2 comments:

रविकर said...

गुरुजनों को सादर प्रणाम ||

सुन्दर प्रस्तुति पर
हार्दिक बधाई ||

शालिनी कौशिक said...

सुन्दर अभिव्यक्ति बधाई
शिक्षक दिवस की बधाइयाँ