*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, September 3, 2011

बेवफाई


उन्मुक्त गगन की आभा थी,
 न  कोई  मेरी सीमा  थी|
जग सारा अपना लगता था.
हर सपना सच्चा लगता था|
पास मेरे जब तू होती थी ,
हर लम्हा बस अपना था|
भूल गया था खुद को मै,
मै तो बस तेरा  था |
                                  भुला दिया तूने  मुझको,
                           कैद हो गया पिंजरे मे |
                           दूर गई जब से  तू  मुझसे ,
                           एक दर्द जगा है  सीने मे |
                            मुक्त प्रेम की आंधी को ,
                            कैद किया मैंने सीने मे|
                             तुझ बिन ये जग सूना है,
                              अब मजा नहीं है जीने मे|
                              

  रचनाकार-प्रदीप तिवारी
   www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
  www.pradeeptiwari.mca@gmail.com
                    

7 comments:

Rajesh Kumari said...

pradeep ji aapne man ke bhaavon ko bahut achche shabdon me achchi kavita ke roop me prastut kiya hai.very nice.

दर्शन कौर said...

Pradip ji aapki kavita men man ki chah ko bahut sunder tarike se ukera gaya hen ..badhai!

वन्दना said...

वाह्…………सुन्दर भावो को बहुत ही खूबसूरती से उतारा है।
अगर बेवफ़ा तुझको पहचान जाते खुदा की कसम हम मोहब्बत ना करते

pradeep tiwari said...
This comment has been removed by the author.
pradeep tiwari said...
This comment has been removed by the author.
pradeep tiwari said...

ham jante the wo bewaha hai fir bhi chane ko dil chaha.majboor the dil se ,unki harkto ko hsrato mai hamne hi badla.......dhanawad ap sabhi ko

meenakshi said...

beautiful jazbaat...



Meenakshi Srivastava