*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 30, 2011

मेरा प्यार(My Love)....



आशमा अपनी तुम उचाई बढा लो ,
हमें अपने हौशलो पर पूरा भरोशा है|

अंधेरो मे रह के देख रहे थे ,
कि  अंधेरो मे अभी  दम कितना है|

दुशमनो कि पहचान थी हमें कब से,
पर देखना था मेरे दोस्त कि रजा क्या है|

मिटने का भी मजा लेते रहे हम,
कऊ  कि उनको  खुस  देखने का अलग ही मजा है|

हम कमजोर तो थे ही नहीं कभी ,
पर उनसे हरने का अपना मजा है |

यूं तो जिन्दगी अभी बहुत थी मरी ,
पर उनके लिए मरने का अलग ही मजा है |

समझ सकी ना वो मेरे जज्बातों को ,
मेरा जीवन फिर भी  उशमे फ़ना है|


रचनाकार -प्रदीप तिवारी
www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
www.sahityapremisangha.com
                                                        


No comments: