*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, August 29, 2011

जिन्दगी

                                              जमी की तलाश मे,
                                             आसमा मिल गया|
                                                                  फूल की तलाश मे,
                                                                  गुलशन मिल गया |
                                           सितारों की तलाश मे ,
                                           चाँद मिल गया |
                                                                 प्यार  की तलाश मे,
                                                                 नाम मिल गया |
                                         खुद की तलाश मे ,
                                         पूरा जग मिल गया |
                                                            फिर भी ना जाने मे ,
                                                                कहा खो गया |
                                     सब तो मिला है मुझे ,
                                    फिर क्यों ये हो गया ?
                                                           होश जब आया मुझे ,
                                                           तब बेहोश हो गया |

रचनाकार - प्रदीप तिवारी 
                    
                                                   

2 comments:

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही सुन्दर रचना....

pradeep tiwari said...

dhanywad