*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 30, 2011

अन्ना की आँधी

अन्ना नहीं ये आँधी है,
आज के युग के गाँधी है।
भ्रष्टाचार विरोधी है,
सकल मूरत संन्यासी है।
परम राष्ट्र कल्याणी है,
जन जन के विश्वासी है।
बेदी और केजरी इनके,
मुख्य आन्दोलनकारी है।

भ्रष्टाचारी,अत्याचारी के,
सबसे बड़े शिकारी है।

अब भारत की जनता सुख,चैन से जीवन बितायेगी,
क्योंकि अन्ना की आँधी अब भ्रष्टाचार मिटायेगी।

मै हूँ अन्ना,मै हूँ अन्ना,
जन जन की हुँकार है,
भ्रष्टाचार विरुद्ध आन्दोलन का यही विस्तार है।

मेरा हम भारतीयों से बस एक नम्र निवेदन है,
करो समर्थन अन्ना का तभी सफल ये जीवन है।

कवि परिचयः-
चन्द्रकान्त द्विवेदी,
छात्र,मेडिकल कालेज,
सतना,म.प्र.

1 comment:

vidhya said...

अन्ना नहीं ये आँधी है,
आज के युग के गाँधी है।
yahi saty hai