*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, August 20, 2011

अब सुनामी आ गया है

अब सुनामी आ गया है
----------------------------
देख कर अन्ना का अनशन
और जनता का    प्रदर्शन
 अरे भ्रष्टों,संभल जाओ, अब सुनामी आ गया है
जड़ तुम्हारी हिला देगा
और तुमको मिटा देगा
गिरा देगा महल,जन सैलाब एसा  छा गया  है
बहुत लूटा देश तुमने,
         और जनता को सताया
बढाई मंहगाई इतनी,
           खून के आंसू  रुलाया
जोश जनता में भरा है
भर गया अब तो घड़ा है
पाप-घट के फूट जाने का समय अब आ गया है
अरे भ्रष्टों संभल जाओ,अब सुनामी आ गया है
बहुत घोटाले हुए है,
                  और भ्रष्टाचार  फैला
मिटाने को अब करप्शन ,
                  नहीं अन्ना है अकेला
सभी मिल कर जुट गए है
हाथ लाखों उठ  गए है
बांध टूटा सबे का है, और विप्लव आ गया है
अरे भ्रष्टों संभल जाओ, अब सुनामी आ गया है

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'

 

1 comment:

meenakshi said...

"Ab sunami aa gaya " " Anna" ko lekar jo kaya udghosh kiya gaya hai ; kabhi utsahwrdhak hai.
Meenakshi Srivastava