*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 3, 2011

चाहत इनमें भी है







ये जो अनदेखे, छोटे बच्चे हैं,
दुनिया में सबसे अच्छे हैं,
एक बार इन्हें मौका तो दो,
आसमाँ छूने की ताकत इनमें भी है॥

भूख ने इन्हे बेहाल कर रखा है,
हमने इन्हें बदहाल कर रखा है,
इक हाथ पकड सहारा तो दो,
(ये अनाथ बच्चे नहीं, इन्हीं मे से कुछ देश के सबसे चमकते सितारे बनेंगे।)


2 comments:

Roshi said...

bilkul sach kaha hai aapne inko mauka milna chahiye

Rajesh Kumari said...

bahut achchi abhivyakti.bhavishya sudharna hai to vartmaan ko majboot karo.aaj ke bachche hi to humara bhavishya hain.