*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 3, 2011

हरियाली तीज


हरियाली तीज

हरियाली तीज के शुभअवसर पर आप 
सभी को बहुत बहुत शुभकामनायें /
 हरियाली तीज

सावन की बहार छाई है ,चले आइये 
अपने प्रिय के साथ, इस मोसम का लुत्फ उठाइए 
रिमझिम फुहारों में भीग जाइये
इन्द्रधनुष के रंगों में खो जाइये 
प्रकृति ने अद्धभुत छटा बिखराई है 
हमारी धरा को नई दुल्हन सी सजाई है
बादल पहाड़ों पर झूक रहे हैं
पेड-पोधे भी उमंग से झूम रहे हैं
नदियाँ अपने पूरे उफान पर बह रही हैं 
सागर से मिलने को बेकरार हो रही हैं 
मदहोश करता एक अजब खुमार छाया है 
लो सावन का महीना आया है 
रूत सुहानी आई है 
 चारों और हरियाली छाई है 
औरतें सोलह श्रंगार करके धानी चुनरिया पहन के 
ढोलक पर कजरी,सावन के गीत गा रही हैं 
फूलों और पत्तों से झूले खूब सजा कर 
अपने प्रियतम के साथ खूब ऊँचे पेंच लड़ा रही हैं 
ये सब पर कैसी मस्ती छाई हुई है 
देखो सावन की हरियाली तीज आई है    
 

6 comments:

ZEAL said...

Thanks for this beautiful and festive post !

Rakesh Kumar said...

आनंद की सुहावनी बरसात ही करदी है आपने.
रसमय मधुर प्रस्तुति के लिए आभार.

S.M.HABIB said...

आनंद आ गया पढ़कर...
बेहतरीन रचना....
सादर...

vidhya said...

आनंद आ गया पढ़कर...
बेहतरीन रचना....
मगर आप अपना पोस्ट को ठीक करे बाहर निकला
हुवा है ?

Dilbag Virk said...

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है , कृपया पधारें
चर्चा मंच

prerna argal said...

आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद /आप सबको मेरी रचना पसंद आई उसके लिए बहुत आभार./आशा है आगे भी आप सबका आशीर्वाद मेरी रचनाओं को मिलता रहेगा /