*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, August 6, 2011

भारत की चेतावनी.....


सुन ले ध्यान लगाकर पाक 
खुली रख हमेशा कान और आँख 
नहीं तो हम जलाकर कर देंगे तुझको ख़ाक 
भूल कर भी यहाँ पर कदम मत रखना 
देखा है तुमने पहले भी भारत का करिश्मा 
कश्मीर हड़पने का सपना तू छोड़ 
हम हैं, सब मिलकर पुरे सौ करोड़ 
भूलकर भी समझना मत कितनी अच्छी है कहानी 
भारत की हर जवानों की यह है जुबानी 
हमने तो समझा था पड़ोसी है पाकिस्तान 
गलती की सज़ा में हम बनायेंगे उसे कब्रिस्तान 
हमारे यहाँ पे है हमेशा शराफत का सम्मान 
इसलिए, पाक सुन भारत की चेतावनी 
समय से पहले समझ वरना आयेगा तेरे आँखों में पानी !!!

नीलकमल वैष्णव"अनिश"

No comments: