*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 17, 2011

हर ख्याल तेरा हैं

हर ख्याल तेरा हैं ,
हर सवाल तेरा हैं ,
इस दिल में बसा हर लम्हा और,
लम्हे में बसा हर दर्द तेरा हैं ,
  मैं  तो सिर्फ एक जर्रा हूँ 
इस तूफ़ान का हर कतरा तेरा हैं
(चिराग )

2 comments:

vidhya said...

मैं तो सिर्फ एक जर्रा हूँ
bahut sundar
rcha hai

prerna argal said...

बहुत ही सुंदर प्रस्तुति /शानदार अभिब्यक्ति के लिए बधाई आपको /
आप ब्लोगर्स मीट वीकली (५) के मंच पर आयें /और अपने विचारों से हमें अवगत कराएं /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /प्रत्येक सोमवार को होने वाले
" http://hbfint.blogspot.com/2011/08/5-happy-janmashtami-happy-ramazan.html"ब्लोगर्स मीट वीकली मैं आप सादर आमंत्रित हैं /आभार