*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 16, 2011

हम हजारे के समर्थक

हम हजारे के समर्थक
--------------------------
हम हजारे के समर्थक,और हम जैसे हजारों
छेड़ होगा आसमां में,  एक पत्थर तो उछालो
         हुई मद में चूर सत्ता
         चला सत्याग्रही जत्था
ना रुकेंगे,ना झुकेंगे,भले लाठी हमें मारो
हम हजारे के समर्थक,और हम जैसे हजारों
          भले लगते अल्प है हम
           मगर दृढ़ संकल्प है हम
सरफरोशी की तमन्ना,जेल बार देंगे  हजारों
हम हजारे के समर्थक,और हम जैसे हजारों
           और अब विद्रोह के स्वर
           हो रहे है मुखर,प्रतिपल
दमन के दम पर न ये,सैलाब थम पायेगा यारों
हम हजारे के समर्थक,और हम जैसे हजारों

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'

1 comment:

vidhya said...

आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें
वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।