*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 16, 2011

रक्षा बंधन




रक्षा बंधन

सभी ब्लोगर भाइयों ,बहनों को रक्षाबंधन की शुभकामनाये


        
रक्षा बंधन 


  
 भाई बहन के पवित्र प्यार को याद दिलाने आता है ये प्यारा त्यौहार 
जिससे दूर होकर भी भाई बहन मिल लें ,याद कर लें साल में एक बार                                                                                       रक्षा के वचन और स्नेह के बंधन कi प्रतीक है रक्षाबंधन                                          


भाई बहन में प्यार और विस्वास रहे सारा जीवन


  
एक दूसरे के दुःख -सुख में काम आयें अपने रिश्ते का मान बढ़ाएं 
  नई पीढ़ी को भी इस त्यौहार का महत्व सीखाएं ,
त्यौहार का अर्थ समझाएं 
रिश्तों को स्वार्थ की आँखों से नहीं दिल में बसे 
प्यार की गहराई से अपनाइए   
खून का रिश्ता टूट नहीं सकता जरुरत पढ़ने पर अपना फर्ज निभाइए   



 कडुवे बोल ,किसी को नीचा दिखानेवाले बोल नहीं,
मीठा बोलिए रिश्ते का मान करिए 
 लालच ,स्वार्थ .जलन जैसी बुराइयों के कारण 
भाई बहन के रिश्ते को  मत तोडिये 
भारतीय संस्कृति इसी लिए तो अच्छी मानी जाती है 
क्योंकि ये हर रिश्ते को प्यार के रिश्ते से बांधती है  
त्योहारों की उमंग रिश्तों को और पास ले आती है  

दिलों में  प्यार और उल्लास जगाती है 
टूटे रिश्ते भी इस उमंग में जुड़ जाते हैं   
दिलों को एक दूसरेकेकरीब ले आते हैं  
 भारतीय त्योहारों और भारतीय संस्कृति का निराला है अंदाज  
हम भारतियों को होना चाहिए उस पर दिलों जान से नाज 

    4 comments:

    Dr (Miss) Sharad Singh said...

    आन्तरिक भावों के सहज प्रवाहमय सुन्दर रचना....

    prerna argal said...

    dhanyawaad sharadji jo aapko meri rachanaa pasand aai.
    please is link per bhi aayen.
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/4-happy-independence-day-india.html
    thanks/yahan bhi aapka swaagat hai.

    vidhya said...

    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें
    वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    Dr Varsha Singh said...

    सुन्दर अभिव्यक्ति....