*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, August 29, 2011

राजाओ और अंग्रेजो की....


राजाओ और अंग्रेजो की बनवाई सड़के आज भी जिन्दा है |
नेताओ की बनवाई सड़के और इमारते बनने से पहले  ही मुर्दा है|
मै सड़के और इमारते  ढूढ़ते  ढूढ़ते  पुरातत्वविद हो गया हु |
जो न लुटा मै २०० सालो मे वो महज ६५ सालो मे लुट चूका हु|
मै पढ़ा लिखा होकर भी ८० लाख करोड़ मे शुन्य लगाते लगाते  भूल जाता हु|
पर पता नहीं ये अनपढ़ इतना हिशाब कैसे कर लेते है |
शायद ये लाख को एक हजार और करोड़ को एक लाख गिनते है|
इसीलिए अरबो के घोटालो को  ये आम बात कहते है |
         अब ये हम नहीं होने देंगे इनसे हम हिसाब लेंगे|
         हम है अब वतन के शिपाही भ्रस्टाचार नहीं होने देंगे|
                                                                   
रचनाकार --प्रदीप तिवारी
                   9584533161

No comments: