*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 10, 2011

जागो

देखो आज फिर लहूलुहान है भारत माँजागो,
अब सार्थक आजादी माँगती है भारत माँजागो,
फिर एक नया सुभाष माँगती है भारत माँजागो,
फिर से एक क्रांति माँगती है भारत माँजागो॥

जागो अब तो जागोकब से... जागो (Complete)


1 comment:

vidhya said...

sundar
jai hind jai hind