*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 10, 2011

संभल जाओ पकिस्तान

कितना समझाया कितना मनाया ,
तरह तरह से शांति का मार्ग दिखाया,
कभी लाहोर गए तो कभी आगरा बुलाय,
पर मोटी बुद्धि कुछ समझ न पाया,
हमारी सहिष्णुता को कमजोरी समझ
कर दिया युद्ध की पहल,
उलटे मुह की खानी पड़ी
शरम से मुह छुपानी पड़ी;
हो आई याद उनको सन ७१ की,
समझ गया शक्ति वो भारत की;
न लेंगे पंगा फिर वो कसम खाया,
खुदा को अपना गवाह बनाया;
इतना होने पर भी वो बाज न आया,
वापस घुसपैठ का राह अपनाया;
कश्मीर को अपनी जागीर बताया और
इसपे अपना अधिकार जताया;
तो ले अब मैं तुम्हे बताता हूँ,
तुम्हारा भरम मिटाता हूँ;
न था यह कभी तुम्हारा,
ये तो नितांत से है हमारा;
छोड़ कर साथ तू जिद का,
हाथ बढ़ा दे दोस्ती का;
हम ख़ुशी से तुम्हे अपनाएंगे,
सारे गिले शिकवे भूल जायेंगे,
पर तू जो फिर न माना,
वापस इसे कमजोरी जाना,
तो समझोता नहीं;
फिर रण होग,
जीवन जय होगा,और फिर मरण होगा .

(यह रचना मेरे एक मित्र द्वारा लिखी गयी है उसने किसी से साझा नहीं किया पर मैं चाहता हूँ सब पढ़े उसकी ये रचना .-प्रदीप )

3 comments:

Dr (Miss) Sharad Singh said...

ऊर्जावान सुन्दर रचना....

vidhya said...

बहुत ही सुन्दर

कविता रावत said...

badiya umang bharti rachna..
"पकिस्तान" maatra bhool gaye hain..