*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 23, 2011

बढ़ बोला



बड़े मुंह से बड़ी बातें,चेहरा था तमतमाया
कुटिल सब बल लगा कर भी,झुका अन्ना को न पाया
सत्य आग्रह टूट जाए,जोर था पूरा लगाया
देख जनता का समर्थन,वो बिचारा बौखलाया
बड़ा बढ़ बोला बहुत है,हम सभी ये जानते है
कौन सत्ता का मुखौटा है सभी पहचानते है

मदन मोहन बहेती 'घोटू'

No comments: