*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, August 14, 2011

ये कैसी आजादी ?


              कहीं  घोटाला , कहीं हवाला,
              आतंक ने देश खंगाला,
              बारूद पर बैठा अपना देश,
              जात-पात, वेश-भूषा में दिया सन्देश;


              भूल गए हम हैं  भारतवास,
              कोई बिहारी, कोई मराठी, कोई है मद्रास;
              चारो तरफ बैर और द्वेष,
              प्यार कहाँ जब....बैठे प्रदेश;


              संयुक्त से एकल हुए,
              दादा-दादी, चाचा-चाची,
              अब बीते कल हुए;
             मांस-मदिरा में डूबा संसार,
             सात्विकता का लुटा बाज़ार;



             आजाद है हम.....
             पर खुद को कैसे बताये,
             कितने बर्बाद है हम;


             गाँधी सुभाष ने देखी थी जो तस्वीर,
             सब ताक पर रख गए, आज के वीर;
             नेताओं ने किया देश का बंटा धार,
             पर इसके, हम खुद ही जिम्मेदार |


कवि परिचय:
सुमीत सिन्हा
गिरिडीह
झारखण्ड

1 comment:

चैतन्य शर्मा said...

बहुत प्यारी कविता ....स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें ..जय हिंद