*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, August 25, 2011

अन्ना का अनशन-प्रतिक्रियाएं

अन्ना का अनशन-प्रतिक्रियाएं 
-------------------------------------
                 १
जब से अन्ना ने किया है अनशन,
रिश्वत खोरों का बुरा हाल है
उन्हें खाने को कुछ नहीं मिल रहा,
उनकी भी भूख हड़ताल है
                 २
एक बूढा संत,दस दिनों से भूखा है
पर सरकार का रुख,अभी तक रूखा है
करोड़ों लोग,अन्नाजी के साथ है
पर सत्ता तो भ्रष्टाचारियों के हाथ है
सबकी मांग है कि भ्रष्टाचार मिट जाए
और जन लोकपाल बिल पास हो जाये
पर भ्रष्टाचारी कहते है कि इतनी जल्दी,
ये बिल कैसे पास कर पायेंगे
अगर भ्रष्टाचार मिट जाएगा ,तो बच्चे क्या खायेंगे
मगर वो ये नहीं समझ पा रहे है,
कि अगर भ्रष्टाचार नहीं मिटा पाए,
तो जनता उन्हें मिटा  देगी
अगले चुनाव में उन्हें,
सत्ता से हटा देगी

घोटू

4 comments:

Priyankaabhilaashi said...

काश..यह भ्रष्टाचार मिट जाए..!!

सुंदर प्रयास..!!!

Neeraj Dwivedi said...

Accha prayas ... aur inhe to mitna hi hai
My Blog: Life is Just A Life
.

vidhya said...

bahut kub

एक स्वतन्त्र नागरिक said...

सत्य वचन.
यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक आलेख हेतु पढ़ें
अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html