*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, August 4, 2011

बधाई ....... पत्र !



प्रिय ,गांवली ... मेरा बधाई ..... पत्र ..स्वीकार करो 








आज का दिन 
मंगलमय हो ! 
०४ अगस्त ....
जन्म दिवस की हार्दिक बधाई ....
















आज .. का दिन 
यादगार का दिन है 
जीवन की इतिहास का दिन है 
पर मै तुम्हारे साथ ,उत्सव नहीं माना पाउँगा
बरसो की यादों को ,बीते लम्हों को 
बस ,अतीत में झांकर 
हंस लूंगा 
जो बिताये थे जीवन के पल, उस पल को याद कर 
हँसते हुए ...दूर से तुम्हे देख लूंगा 
हम जीवन बंधन में न बंध सकें तो क्या हुआ 
हमारा प्रेम ... तो जीवित है 
जैसे ..मीरा की प्रेम ....
आज ..तुम २१ वर्ष की ...
ओर कदम आगे बढ़ा रही हो ..
जीवन की नई डगर ,नई उमंग तुम्हारे पास है 
आगे बढ़ो ...
नई इतिहास रचो 
प्रेम ,का अर्थ ही त्याग है ....
जन्म दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं !....

लक्ष्मी नारायण लहरे "साहिल "

7 comments:

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

Bahut sundar badhai sandesh hai aapka..

संजय भास्कर said...

वाह बेहतरीन !!!!

DR. ANWER JAMAL said...

Nice post .

टिप्पणी के लेन-देन के पीछे छिपी हक़ीक़त को बेनक़ाब करती हुई एक लाजवाब कहानी
आप क्या जानते हैं हिंदी ब्लॉगिंग की मेंढक शैली के बारे में ? Frogs online

sushma 'आहुति' said...

सुन्दर रचना....

सागर said...

bhaut khubsurat...

Neelkamal Vaishnaw said...

बहुत ही अच्छा माध्यम चुना आपने अपने अतीत को बधाई देने के अच्छी रचना है

LAXMI NARAYAN LAHARE said...

आदरणीय ,ईं.प्रदीप कुमार साहनी ,संजय भास्कर,DR. ANWER JAMAL, sushma 'आहुति , सागर,Neelkamal Vaishnaw, ब्लोगर बंधुओं को सप्रेम अभिवादन ...
विगत एक सप्ताह से संचार ब्यवस्था की गड़बड़ी के वजह से ब्लॉग तक नहीं पहुंच पाया था ...
आप सभी को स्नेह के लिए हार्दिक आभार ...
सादर
लक्ष्मी नारायण लहरे