*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, August 1, 2011

गुठलियाँ

सफलता है आम का रस ,गुठलियाँ है जूझना
आम का असली मज़ा है,गुठलियों को चूसना
  घोटू

4 comments:

Neeraj Dwivedi said...

A great thought in few words..

vidhya said...

बहुत ही सुन्दर

LAXMI NARAYAN LAHARE said...

सुन्दर,बहुतसुन्दर

सागर said...

behtreen...